पतंजलि गिलोय घनवटी के फायदे और नुकसान नहीं जानते तो यहां देखें

दिव्या फार्मेसी का patanjali giloy ghanvati प्रसिद्ध है। इसका उपयोग करने से पूर्व आपको पतंजलि गिलोय घनवटी के फायदे और नुकसान जानने जरूरी है। giloy ghanvati आयुर्वेदिक औषधि है यह giloy ghanvati patanjali द्वारा निर्मित उत्पाद है। ये आपको patanjali giloy tablet के रूप में मार्केट में उपलब्ध है। गिलोय घनवटी का उपयोग आयुर्वेद में इम्यूनिटी सिस्टम बूस्ट करने में उपयोग किया जाता है, पतंजलि गिलोय घनवटी टैबलेट आनलाइन पतंजलि स्टोर या आयुर्वैदिक स्टोर से प्राप्त हो जायेगा । पतंजलि गिलोय घन वटी का जिक्र रामदेव बाबा ने कई बार अपने कार्यक्रमों में किया है जिनके उन्होने अनेकों फायदे बताए हैं आज हम आपको यहां पतंजलि गिलोय घन वटी के फायदे के साथ कुछ नुकसान भी बताने जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: ऐसे उठाएं पतंजलि सौंदर्य फेस वाश के फायदे और चमकाएं अपनी स्किन

पतंजलि गिलोय घनवटी के फायदे और नुकसान

आयुर्वैदिक हर्बल प्रोडक्ट के लिए मशहूर पतंजलि का यह पतंजलि गिलोय घनवटी के यहां कुछ फायदे  और नुकसान  दिए गए हैं इनको जानें, दरअसल गिलोय को आयुर्वेद में अमृता कहा गया है क्योंकि जिस तरह अमृत इंसान को अमर बना देती है उसी प्रकार गिलोय भी इंसान का आयुष्य बढा देती है। आयुर्वेद में गिलोय के गुण से पत्ते भरे हुए है। कैसी भी बीमारी क्यो न हो अगर आदमी गिलोय का विवेकपूर्ण उपयोग करे तो यह रामबाण औषधि है। ईश्वर के इस वरदान का उपयोग करके मनुष्य छोटी मोटी बीमारी से बच सकता है।

पतंजलि गिलोय घन वटी के फायदे

हालांकि की giloy ghanvati patanjali के अनेकों फायदे हैं जिनमें से कुछ फायदे हैं हम आपको नीचे बता रहे हैं जिनको आपको जानना बेहद जरूरी है इसका सेवन आप बिना डॉक्टर के पूछे भी कर सकते हैं लेकिन किसी भी परिस्थिति में डॉक्टर की सलाह महत्वपूर्ण है।

पतंजलि गिलोय घन वटी के फायदे
पतंजलि गिलोय घन वटी के फायदे

1. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है : बहुत से लोग हमें ऐसे मिलते है जिसे कोई ना कोई बीमारी की हमेशा शिकायत रहती है। उसे रोज कोई ना कोई रोग रहता है। अगर आपके साथ बीबी ऐसा हो रहा है तो आप समझ जाना कि आपकी शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता कम हो गई है। अगर व्यक्ति नियमित तौर पर पतजंलि गिलोय घनवटी का उपयोग शरू कर दे तो उसके रक्त में सुधार होगा जिससे उसकी रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। अगर रोगप्रतिरोधक क्षमता इम्प्रूव होगी तो व्यक्ति बीमार नहीं पड़ेगा।

2. चेहरे के दाग धब्बे मिटाने में उपयोगी : कई बार व्यक्ति के चहरे पर दाग धब्बे दिखाई देता है उनके कारण व्यक्ति की सुंदरता कम हो जाती है।यदि गिलोय का सेवन हम नियमित सेवन शरू कर दे तो गिलोय में मौजूद एंटी-बैक्टीरियल गुण के कारण हमारी त्वचा को मुलायम एवम सुंदर बनाने में बहुत मदद करता है।

3. रक्त की शुद्धि और रक्त को साफ करने में उपयोगी : अगर हमारे शरीर का रक्त साफ रहे तो हम लंबे वक्त तक निरोगी जीवन जी सकते है। पतंजलि गिलोय घनवटी मे मौजूद एंटी-ओक्सिडेंट और एंटी-बैक्टीरियल गुण हमारे शरीर के रक्त को पूरी तरह शुद्ध बनाता है।जिससे हमारे शरीर को कैंसर जैसे बड़े से बड़े रोग में भी राहत मिलती है।

4. यकृत (लिवर ) के रक्षक का कार्य: यकृत और लिवर यह दोनों अंग हमारे शरीर मे बहुत महत्व रखते है। ऐसा पाया गया है कि जो व्यक्ति 100 साल या उससे भी ज्यादा जिया है उसका यकृत और लिवर बहुत अच्छे से काम करते थे। पतजंलि गिलोय में मौजूद गन के कारण यह हमारे यकृत और लिवर को सही करने का काम करता है। गिलोय से यकृत और लिवर दोनों को शक्ति मिलेगी।

5. मधुमेह के रोगी के लिए वरदान: एक संशोधन में ऐसा पाया गया कि रोजाना 1 चमच गिलोय का सेवन करने वाला मधुमेह का रोगी अपना शुगर कंट्रोल कर पाने में कामयाब रहा था।

6. बुखार में फ़ायदाकारक: जो लोग रोजाना गिलोय का उपयोग करते है उसे बुखार होने की संभावना बहुत कम हो जाती है। कैसा भी बुखार हो गिलोय घनवटी का उपयोग करके बुखार ठीक किया जा सकता है। वो स्वाइन फ्लू का बुखार हो या डेंगू का बुखार हो गिलोय सब प्रकार के बुखार में फायदाकारक है।

7. अन्य लाभ : शरीर मे सूजन, शारिरिक कमजोरी और शरीर को शक्ति प्रदान करने में फ़ायदाकारक है।

patanjali giloy ghanvati ( पतंजलि गिलोय घन वटी )

पतंजलि गिलोय घन वटी दिव्य फार्मेसी द्वारा निर्मित है पतंजलि गिलोय घन वटी एक शानदार प्रोडक्ट है जो इसे अच्छी तरह से पोषित करके शरीर की ऊर्जा और ताकत को बढ़ाने में मदद करता है। यह इम्यून सिस्टम के लिए भी उतना ही अच्छा है जो बदले में शरीर को कई संक्रामक बीमारियों से बचाता है। इससे सामान्य डेबीलिटी, बुखार, त्वचा और मूत्र संबंधी समस्याओं में उपयोगी। इसको गिलोय giloy ghanvati (तिन्साबुनोरा कार्डीफोलिया) से बनाया गया है। जिसे 12 साल से ऊपर- 1 टैबलेट दो बार प्रतिदिन, 12 साल से कम आयु आधा टैबलेट दो बार प्रतिदिन या जैसा चिकित्सक निर्देश दे। वैसे ही खा सकते हैं।

गिलोय घनवटी खाने का तरीका

आपको patanjali giloy ghanvati खाने के अनेकों तरीके मिल जायेंगे। जिसमें से कुछ महत्वपूर्ण तरीके यह है कि गिलोय घन वटी को आपको बुखार हैं तो इसका काढ़े का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा आप गिलोय घनवटी पानी के साथ दिन में दो बार खाने के बाद लें यह तरिका अपनाएं अगर आप अपनी इम्यूनिटी बूस्ट करना चाहते हैं तो रोजाना इसका सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आप गिलोय का काढ़ा, गोली या फिर जूस पी सकते हैं। patanjali giloy tablet भी आपको मार्केट में उपलब्ध हो जाएगी जिसे आपको अमेजॉन या पतंजलि स्टोर से खरीदना पड़ सकता है। गिलोय घनवटी उपयोग आप अधिक मात्रा में न करें इसे आपको नुकसान हो सकता है।

और नया पुराने