इसबगोल के फायदे लिवर के लिए एक आहार फाइबर है जो शिथिलता में सहायता करता है

इसबगोल के फायदे लिवर के लिए बेमिशाल हैं। इसबगोल, जिसे आमतौर पर साइलियम भूसी के रूप में जाना जाता है, एक आहार फाइबर है जो शिथिलता में सहायता करता है और मल की मात्रा में सुधार करता है। कब्ज के लिए घर पर सबसे आम उपचारों में से एक। इसबगोल को विभिन्न क्षेत्रों में प्लांटागो ओवाटा, इस्पगुल, बारटांग, इसाबागोलू, उमटो, उर्थामुजिरम और कई अन्य नामों से भी जाना जाता है।

इसबगोल तृप्ति की अनुभूति देकर और अधिक् भोजन करने कि प्रवत्ति को कम करके वजन घटाने में मदद करता है। यह मधुमेह वाले लोगों के लिए भी सहायक है क्योंकि यह रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। यकृत रोग उपचार में इसबगोल साइक्लोऑक्सीजिनेज के कार्य में बाधा डालकर काम करता है। साइक्लोऑक्सीजिनेज एक लिवर एंजाइम है जो एसिटिकोलाइन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार है। क्योंकि एसिटाइलकोलाइन को यकृत की सूजन से जोड़ा गया है, शोधकर्ताओं ने यकृत रोग के इलाज में इसे कम करने का एक तरीका खोजा है।

इसबगोल के फायदे लिवर के लिए
इसबगोल के फायदे लिवर के लिए

चूँकि लीवर शरीर के फिल्टर के रूप में कार्य करता है, इसकी फ़िल्टरिंग प्रणाली अन्य अंगों और ऊतकों के प्रबंधन में एक आवश्यक भूमिका निभाती है। यह सेरोटोनिन और डोपामाइन जैसे न्यूरोट्रांसमीटर के स्तर को भी नियंत्रित करता है जो स्मृति, व्यवहार और मनोदशा के लिए महत्वपूर्ण हैं। सूजन संबंधी विकारों में शोधकर्ता विशेष रूप से यकृत के हिस्से में रुचि रखते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि माना जाता है कि लिवर की बीमारी सूजन प्रक्रियाओं और कैंसर, सूजन आंत्र रोग और हेपेटाइटिस जैसी बीमारियों से जुड़ी होती है।

यह भी पढ़ें : ईसबगोल की भूसी ठंडी होती है या गर्म और खाली पेट इसबगोल खाने के फायदे तथा पतंजलि इसबगोल और मिश्री के फायदे

आइए जानते हैं इसबगोल के फायदे लिवर के लिए और इसे खाने के सही तरीका के बारे में।

इसबगोल के फायदे लिवर के लिए

डॉक्टर अक्सर सिरोसिस और अल्कोहलिक हेपेटाइटिस सी वाले रोगियों को विटामिन सी और ई के साथ इसबगोल लेने की सलाह देते हैं। जबकि लिवर रोग के उपचार और रोकथाम में उनकी संभावित दक्षता के लिए कई प्राकृतिक स्वास्थ्य उत्पादों की जांच की गई है। इसबगोल के फायदे लिवर के लिए क्या हो सकते हैं आइये जानते हैं:

पाचन को बेहतर बनाने में मदद करें

बहुत से लोग सोचते हैं कि सारा पाचन पेट में होता है। पर ये सच नहीं है। पाचन पेट के भीतर शुरू होता है और यकृत तक जाता है। पेट में मौजूद एसिड खाए गए भोजन को पचाता है, जबकि लीवर मल को बाहर निकालने में मदद करता है। यदि कोई समस्या होजाए, तो मल शरीर से बाहर नहीं निकल पाता है और यह अधिक जटिलताओं का कारण बनता है।

फैटी लीवर से छुटकारा मिलता है

फैटी लीवर से पता चलता है कि आपके लीवर में कुछ गड़बड़ है। हम शायद इसके बारे में बहुत कम जानते हों, लेकिन जब लिवर क्षेत्र में दर्द और सूजन महसूस होती है, तो यह संकेत मिलता है कि कोई समस्या है। यदि आप उस समय इसबगोल का उपयोग करते हैं तो आपको कई लाभ प्राप्त होंगे।

फाइबर की आवश्यकता को पूरा करता है

फाइबर एक महत्वपूर्ण घटक है, खासकर आपके पेट और लीवर के लिए। जैसे ही आप इसबगोल पीते हैं, आप अपने पेट और लीवर को फाइबर की आपूर्ति कर रहे होते हैं। इसलिए आप पाचन के साथ-साथ फाइबर की कमी भी पूरी कर रहे हैं। इसका इस्तेमाल करके आप अनेक लाभ प्राप्त करेंगे।

इसबगोल कब खाना चाहिए

इसबगोल एक आहारीय फाइबर है, इसलिए दिन में किसी भी समय इसका अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए। इस प्रकार, अपने सेवन को सुबह एक चम्मच और रात को सोने से पहले आधा चम्मच तक सीमित रखें।

इसबगोल को जागने के तुरंत बाद या रात को सोने से से पहले दोनों समय लिया जा सकता है। यह आपकी प्राथमिकताओं और शरीर की ज़रूरतों पर निर्भर है। नाश्ते से पहले इसबगोल का सेवन यह सुनिश्चित कर सकता है कि आपका पेट पूरे दिन तृप्त महसूस करेगा। साथ ही, रात को सोने से पहले इसबगोल सेवन लेने से आपकी नींद भी बेहतर होगी।

खाली पेट इसबगोल खाने के फायदे

यदि आप वजन घटाने के लिए नवीन तरीकों की तलाश में हैं, तो खाली पेट इसबगोल का सेवन आपके लिए है। इसबगोल प्राकृतिक और अत्यधिक फायदेमंद है। यह आपके पेट को स्वस्थ बनाए रखेगा।

आपको बस एक चम्मच भूसी में गुनगुना पानी और आधा नींबू मिलाना है। इसे अच्छी तरह मिलाएं और खाली पेट लें। सुबह उठते ही आपको सबसे पहले यही करना है। पेय का लंबे समय तक उपयोग वजन घटाने में मदद करेगा। अगर आपको कब्ज की समस्या है तो इसबगोल से आपको तुरंत राहत मिल सकती है। एक गिलास दूध में 2 बड़े चम्मच भूसी मिलाएं और इसे खाली पेट पिएं।

और नया पुराने