राज मोहिनी जड़ी का प्रयोग कैसे करें और कहां मिलेगी जानिए

आज हम आपके लिए राज मोहिनी जड़ी का प्रयोग कैसे करें विषय पर चर्चा करेंगे जिसमें आप जानेंगे कि केसे यह दुर्लभ जड़ी काम करती है साथ ही राज मोहिनी जड़ी कहां मिलेगी इसका भी पता बताएंगे तो चालिए जानते हैं।

राज मोहिनी जड़ी का प्रयोग कैसे करें
राज मोहिनी जड़ी का प्रयोग कैसे करें

राज मोहिनी जड़ी के फायदे

पहचान के लिए अगर आप हाथ मे लेकर इसे पानी मे डाल कर बाहर निकालेंगे तो यह अपने आप घूमने लगती है और विशेष बात यह है कि ये हमेशा सीधी दिशा मे ही घूमती है कभी उल्टी दिशा में नहीं घूमती, और यदि दो जड़ी को एक साथ पानी में डाल कर निकालेंगे तो यह दोनों आपस मे एक दूसरे से लिपअट जाती है मोहिनी जड़ी भगवन विष्णु के मोहिनी अवतार का ही स्वरुप मानी जाती है इसीलिए इसमें प्राकृतिक रूप से सम्मोहन की शक्ति है। मोहिनी जड़ी को मोहिनी क्रिया में प्रयोग किया जाता है, Tantra Astro द्वारा असली शुद्ध मोहिनी उपलब्ध है जो की व्यक्ति विशेष के नाम एवं कार्य अनुसार यंत्र में सिद्ध अभिमंत्रित जाग्रित कर दिया जाता है।

राज मोहिनी जड़ी कहां मिलेगी

यह नाचने वाला पौधा भी कहलाता है, जो पानी के संपर्क में आते ही स्वतः हिलने-डुलने लगता है। इसकी जड़ में ही मोहिनी शक्ति होती है। वास्तु शास्त्र की तरह चीन की चर्चित फेंग शुई में भी इस पौधे का जिक्र क्रोसुला नाम से किया गया है। इसके अनुसार भी घर में रख देने मात्र से पैसा अपनी ओर खींचता है। इसकी पत्तियां अन्य पौधों के पत्ते की तरह आसानी से टूटती नहीं हैं। यह दुर्लभ पौधों में से एक है, जिसकी पहचान जड़ी-बुटियों का जानकार ही कर सकता है। अनुभवी व्यक्ति ढूंढकर इसकी जड़ी को जमीन से निकाल पाता है। तंत्रिक के अनुसार इसे विशेष रात्री के समय में एक विशेष मंत्र जाप के साथ निकाला जाता है। इससे राज मोहिनी जड़ी की विशिष्टता और प्रभाव का अंदाजा लगाया जा सकता है और इसके इस्तेमाल के लिए तांत्रिक की सलाह के आनुसार ही किया जाना जरूरी है। राज मोहिनी जड़ी की विशिष्टता और प्रभाव संबंध में कुछ तथ्य और मान्यताएं इस प्रकार हैंः-

सबसे पहले तो यह की मोहिनी जड़ी बूटी को राज मोहिनी जड़ी बूटी के नाम से भी जाना जाता हैं। यह जड़ी बूटी बहुत ही दुर्लभ मानी जाती हैं, यह जुडी बूटी आपको कही पर भी आसानी से नहीं मिलती, या फिर ऐसा मानो की इस जड़ी बूटी की प्रजाति विलुप्त हो रही हैं, अगर आपको कही पर यह जड़ी बूटी मिल जाए तो यह बहुत अच्छी हैं। इस जड़ी बूटी को बहुत ही रहसयमय जड़ी बूटी माना जाता है, क्योंकि यह किसी वनस्पति की जड़ में से प्राप्त होती हैं। इस जुडी बूटी की खास बात यह है की इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल ज्योतिष शास्त्र, आयुर्वेदिक तथा तंत्र मंत्र वशीकरण आदि में भी किया जाता हैं।

इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल आयुर्वेदिक में कम बुद्धि लोगो के लिए किया जाता हैं, ताकि इस जड़ी बूटी से व्यक्ति की बुद्धि में वृद्धि हो सके, ज्योतिष शास्त्र में इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल धन की प्राप्ति के लिए किया जाता हैं, ऐसा माना जाता है की इस जड़ी बूटी के इस्तेमाल से हम हमारे धन में वृद्धि कर सकते हैं। तंत्र मंत्र और वशीकरण विद्या में इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल किसी को भी अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए किया जाता हैं, तांत्रिक इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल व्यक्ति को वशीकरण करने के लिए करते हैं। वैसे तो इसके पास से गुजरने वाला हर व्यक्ति उससे आकर्षित हो जाता है, लेकिन इसका सक्रिय प्रभाव व्यक्ति के सामने जड़ी को पानी में डालने पर ही दिखता है।

इसके पानी में डालते ही यदि वह तेजी से घुमने लगे तो समझें वह व्यक्ति आपके वश में आ चुका है। उससे अपनी मनोकामना पूर्ण कर सकते हैं। यानी आप जो कहेंगे उसका वह पालन करेगा। इस प्रभाव का सकारात्मक इस्तेमल करना चाहिए। इसे पानी में डालकर बाहर निकालते ही सीधी दिशा में घूमती है। यह कभी भी उल्टी दिशा में नहीं घूमती। दो जड़ी को पानी में डालने पर वे आपस में लिपट जाती हैं। इस जड़ी को धारण करने के कुछ नियम बताए गए हैं। जैसे इसे पहनने की बात गुप्त रखें। भगवान विष्णु की आराधना करें। गलत और छल-कपट जैसे कार्य नहीं करें। अनैतिक यौन संबंध के लिए पर स्त्री गमन नहीं करें।

इस रहस्यमी जड़ी से किसी भी तरह का वशीकरण संभव है। इसे हासिल करने का अर्थ भगवान विष्णु की कृपा का होना होता है। कारण इसे विष्णु के स्वरूप माना गया है। मान्यता है कि यदि इसे कोई चखकर जिस किसी व्यक्ति को मुस्कुराते हुए देख ले, और वह भी उसकी मुस्कुराहट का जवाब मुस्कुराहट से दे तब उसपर सम्मोहित हो जाता है। उसकी समस्त भावनाएं और सोच का वशीकरण हो जाता है।

राज मोहिनी जड़ी का प्रयोग कैसे करें

इसका इस्तेमाल अलग-अलग कार्यों के लिए विभिन्न विधियों से किया जाता है। जिसमें मनोवांछित कार्य में सफलता या किसी के वशीकरण जैसे कार्य हो सकते हैं। कारोबार में उन्नति, शादी में हो रहे विलम्ब या मनपसंद जीवन साथी की प्राप्ति में इसका तांत्रिक उपयोग किया जा सकता है। इसका उपयोग राजनीतिक प्रभाव और सामाजिक मान-मर्यादा बढ़ाने में भी होता है। इसकी मदद से सामूहिक सम्मोहन भी किया जा सकता है। किसी सभा को संबोधित करते हुए कक्षाओं में स्टुडेंट की पढ़ाई के प्रति एकाग्रता बनाने आदि में राज मोहिनी जड़ का सकारात्मक प्रयेग किया जा सकता है। इसके इस्तेमाल से पति-पत्नी के बीच आपसी संबंध मधुर बनते हैं और उनका जीवन सुखमय बीतता है। स्त्री या पुरुष दोनों एक दूसरे के सम्मोहन के लिए शुभ मुहूर्त में धारण कर सकते हैं।

प्रेमियों के लिए विवाह का योग बनाने में राज मोहनी जड़ी का अचूक असर होता है। इसका अधिक इस्तेमाल तांत्रिक साधनाओं के लिए किया जाता है। जिसमें भूत-प्रेत और भटकी आत्माओं को आकर्षित करने जैसी क्रियाएं हैं। वे भूत-प्रेत की चपेट में आए व्यक्ति को इस प्रयोग से छुटकारा दिलाते हैं। तांत्रिक साधन से राज मोहिनी जड़ी के प्रभाव से अकस्मिक मृत्यु के कारण भटकती आत्मा को भी मुक्ति मिल जाती है। इसका औषधीय उपयोग मनोरोग में किया जाता है, जबकि इसके धारण करने से नौकरी के लिए इंटरव्यू सफलता मिलती है।

इसे पीसकर सम्मोहनकारी तिलक बनाया जाता है, जिसके उपयोग से वशीकरण किया जा सकता है। तांत्रिक की सलाह के अुनसार इसका उपयोग गलत धारणा से नहीं करना चाहिए। जैसे किसी का वशीकरण उसके द्वारा किसी अन्य व्यक्ति को परेशन करना या दुश्मनी बढ़ाना। इसी तरह से गलत धारणा से किसी स्त्री का वशीकरण करने, इस जड़ी का घरेलू कलह जैसा परिणाम भी पड़ सकता है।

और नया पुराने