इन 7 तरीकों से उठाएं शंकर जटा जड़ी बूटी के फायदे जानें क्या है यह अनोखा पौधा की विशेषता

भारतवर्ष में उत्पन्न होने वाली यह शंकर जाता एक प्राचीन दिव्या जड़ी बूटी है और आज हम आपको शंकर जटा जड़ी बूटी के फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं साथ इसमें आप यह जानेंगे कि शंकर जटा का पौधा कैसा होता है। शंकर जाटव प्राचीन काल से उपयोग में आता रहा है इसके प्रयोग मंत्र विज्ञान में भी अनेक सिद्धियां प्राप्त करने के लिए किया जाता रहा है इसके साथ ही और जड़ी बूटी आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर है।

शंकर जटा जड़ी बूटी के फायदे

शंकर जाता का उपयोग आदिवासी लोग लकवा की बीमारी को ठीक करने में अधिकांश करते थे अब भी यह अधिकतर आयुर्वेद में लकवा की बीमारी को ठीक करने में उपयोग किया जाता है ऐसा माना जाता है कि इस जड़ी बूटी का सेवन करने से ही शरीर की बहुत सी व्याधियों समाप्त हो जाती हैं यह बहुत ही दुर्लभ जड़ी बूटी है और यह केवल भारत में ही कुछ इलाकों में पाया जाता है।

शंकर जटा जड़ी बूटी के फायदे

प्राचीन काल में इस जड़ी बूटी का उपयोग तांत्रिक प्रयोग में किया जाता था लेकिन अधिकांश लोग इसका उपयोग ब्लड सर्कुलेशन एवं थायराइड तथा वात पित्त रोगों में उपयोग करते हैं इसकी मालिश करने से आपको जोड़ों का दर्द घुटनों का दर्द एवं लकवा जैसी बीमारी से निजात मिल जाता है इसका सेवन घटिया रोग के लिए भी बेहतर रहता है यदि आप इसका सेवन करना चाहते हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श देकर करें या फिर संबंधित विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें ताकि आप किसी भी जोखिम से बचे रहैं।

यह भी पढ़ें: 5 जवासा जड़ी बूटी के फायदे अपको रखेंगे सदैव निरोग जानें कैसे

शंकर जटा का पौधा 

इसका पौधा लंबी दो रंग की पत्ती वाला होता है यह अधिकांस हिमालय के इलाकों में पाया जाता है इसको आयुर्वेद में काफी महत्व दिया जाता है इसका उपयोग लोग तांत्रिक सिद्धियां व गतिविधियों में करते रहते हैं। दंत कथाओं पर आधारित तथ्य कहते हैं इस जड़ी बूटी का उपयोग सम्मोहन, वशीकरण, एवम धन प्राप्ति में किया जाता।

शंकर जटा का पौधा


और नया पुराने